Mirambika – ek adhuri purani kahani

Based on Haar Ki Jeet by Shri Sudarshan

बुआ को अपने भतीजे  और किसान को अपने लहलहाते खेत देखकर जो आनंद आता है, वही आनंद माँ भारती के बच्चों कोअपना स्कूल देखकर आता था। भगवद्-भजन से जो समय बचता, वह स्कूल के खुले वातावरण में ख़ुशी ख़ुशी बीत  जाता।वह स्कूल बड़ा सुंदर था, हरा भरा , खुला खुला , आसमान आ – हवा – सूरज – ज़मीन से जुड़ा हुआ ।उससे सुन्दर स्कूल कहीं न था।माँ भारती के बच्चे उसे ‘मिराम्बिका’ कह कर पुकारते, अपने हाथों से उसे साफ़ करते, संवारते और वहीँ पढ़ – खेलकर प्रसन्न रहते ।माँ भारती के बच्चों की इस ख़ुशी के लिए उनके अभिभावकों ने रूपया, माल, असबाब, ज़मीन आदि अपना सब-कुछ कमकर या छोड़ स्कूल के आस पास ही घर बसा लिए , यहाँ तक कि वे भी स्कूल का एक अभिन्न  हिस्सा बन गए और कुच्छ वहां निस्वार्थ सेवा भी करने लगे । स्कूल से जुड़े लगभग सभी लोग एक समाधी के आस पास छोटे-छोटे कमरों में रहते और भगवान का भजन करते थे।”हम  मिराम्बिका के बिना नहीं रह सकेंगे “, उन्हें ऐसी भ्रान्ति सी हो गई थी। वे उसके बच्चों और वातावरण पर लट्टू थे। कहते, “ऐसे चलता है जैसे देवी माँ का यन्त्र जैव  हो नाच रहा हो।” जब तक वे सब सुबह से संध्या तक मिराम्बिका में आठ-दस घंटे  न बिता लेते, उन्हें चैन न आता।

दूर कहीं केचूहा सिंह अपने इलाके का प्रसिद्ध डाकू था। लोग उसका नाम सुनकर काँपते थे। होते-होते मिराम्बिका की कीर्ति उसके कानों तक भी पहुँची। उसका हृदय उसे देखने – पाने के लिए अधीर हो उठा।वह एक दिन दोपहर के समय एक गरीब अपाहिज साधू के वेश में बैसाखी सहारे माँ भारती के बच्चों के पास पहुँचा और अपना परिचय दे नमस्कार करके बैठ गया। दयालु बच्चों ने पूछा, “केचूहा सिंह, क्या हाल है?”

उसने सिर झुकाकर उत्तर दिया, “आपकी दया है।”

“कहो, इधर कैसे आ गए?”

“मिराम्बिका की चाह खींच लाई।”

“अद्भुद स्कूल है हमारा। देखोगे तो प्रसन्न हो जाओगे।”

“मैंने भी बड़ी प्रशंसा सुनी है।”

“इसका वातावरण तुम्हारा मन मोह लेगा!”

“कहते हैं देखने में भी बहुत सुँदर है।”

“क्या कहना! जो उसे एक बार देख लेता है, उसके हृदय पर उसकी छवि अंकित हो जाती है।”

“बहुत दिनों से अभिलाषा थी, आज उपस्थित हो सका हूँ।”

माँ भारती के बच्चों ने अपनी प्रियतम दीदी सुलोचना को केचूहासिंह को अपना स्कूल दिखाने को कहा और खुद केचूहासिंह के कहने पर बाहर निकल पेड़ों के बीच पिकनिक मनाने लगे। दीदी ने स्कूल दिखाया गर्व से, केचूहा सिंह ने देखा लालच से।उसने सैंकड़ो स्कूल देखे थे, परन्तु ऐसा सुंदर, हरा भरा , खुला खुला , आसमान – हवा – सूरज – ज़मीन से जुड़ा हुआ  स्कूल उसने सपने में भी न देखा था। सोचने लगा, भाग्य की बात है। ऐसा स्कूल तो केचूहा सिंह के पास होना चाहिए था, दीदी सुलोचना और माँ भारती के बच्चों को ऐसी चीज़ों से क्या लाभ? कुछ देर तक आश्चर्य से चुपचाप खड़ा रहा।इसके पश्चात् उसके हृदय में हलचल होने लगी की अगर वह स्कूल हड़प ले तो डाकू से राजा बन जाएगा। बालकों की-सी अधीरता से बोला, “सुलोचना दीदी, मैं कुछ समय अकेले ही इस देवी माँ का यन्त्र का अनुभव करना चाहता हूँ , आप भी बाहर निकल पेड़ों के बीच माँ भारती के बच्चों के संग पिकनिक मनाए थोड़ी देर?” सुलोचना दीदी स्कूल का ताला चाबी  केचूहासिंह को दे बाहर आ गयीं और माँ भारती के बच्चों को खोजने लगीं लेकिन माँ भारती के बच्चों को तब तक केचूहासिंह के साथी बंधक बना मिराम्बिका से दूर एक झोपड़ी में लेजा चुके थे।इधर केचूहासिंह ने स्कूल पर अपना ताला लगा दिया और बैसाखी फ़ेंक रावण समान अट्टहास कर सुलोचना दीदी को बोला “अगर तुमने स्कूल लौटने की कोशिश की तो माँ भारती के बच्चों को फिर कभी न देख पाओगी इसलिए चुपचाप मेरे साथी डकैतों की खींची लकीर के पार चली जाओ।” उसका असली रूप देख सुलोचना दीदी का दिल बैठ गया। वह डाकू था और जो वस्तु उसे पसंद आ जाए उस पर वह अपना अधिकार समझता था। उसके पास बाहुबल था और आदमी भी। सुलोचना दीदी ने निकट जाकर उसकी ओर ऐसी आँखों से देखा जैसे बकरा कसाई की ओर देखता है और कहा, “यह स्कूल तुम्हारा हो चुका है। मैं तुमसे इसे वापस करने के लिए न कहूँगी परंतु केचूहासिंह, केवल एक प्रार्थना करती हूँ, उसे अस्वीकार न करना, नहीं तो मेरा दिल टूट जाएगा।”

अपनी मूच्छों के नीचे एक कुटिल मुस्कान लिए बोला “दीदी, आज्ञा कीजिए। मैं आपका दास हूँ, केवल स्कूल न दूँगा।”

“अब स्कूल का नाम न लो मैं तुमसे इस विषय में कुछ न कहूँगी, मेरी प्रार्थना केवल यह है कि इस घटना को किसी के सामने प्रकट न करना।” केचूहासिंह का मुँह आश्चर्य से खुला रह गया।उसका विचार था कि उसे स्कूल  सुलोचना दीदी को जान से प्यारा था, परंतु उन्होंने केवल यह कहा कि इस घटना को किसी के सामने प्रकट न करना। इससे क्या प्रयोजन सिद्ध हो सकता है? केचूहासिंह ने बहुत सोचा, बहुत सिर मारा, परंतु कुछ समझ न सका। हारकर उसने अपनी आँखें दीदी के मुख पर गड़ा दीं और पूछा, “दीदी, इसमें आपको क्या डर है?”

सुनकर दीदी ने उत्तर दिया,”लोगों को यदि इस घटना का पता चला तो वे दीन-दुखियों पर विश्वास न करेंगे।” यह कहते कहते उन्होंने मिराम्बिका की ओर से इस तरह मुँह मोड़ लिया जैसे उनका उससे कभी कोई संबंध ही नहीं रहा हो।दीदी चली गए परंतु उनके शब्द केचूहासिंह के कानों में उसी प्रकार गूँज रहे थे।सोचता था, कैसे ऊँचे विचार हैं, कैसा पवित्र भाव है! उन्हें इस स्कूल से प्रेम था, इसे देखकर उनका मुख फूल की तरह खिल जाता था। कहती थीं , “इसके बिना मैं रह न सकूँगी ।” इसकी रखवाली में वे कई रात सोई नहीं। भजन-भक्ति संग रखवाली करती रहीं, परंतु आज उनके मुख पर दुख की रेखा तक दिखाई न पड़ती थी।उन्हें केवल यह ख्याल था कि कहीं लोग दीन-दुखियों पर विश्वास करना न छोड़ दे। ऐसी महिला, मनुष्य नहीं, देवी है।जैसे ही ये सद विचार केचूहासिंह के मन में आए वैसे ही उसके साथी डकैतों ने उसकी जयजयकार कर उसे अपना डाकूराज घोषित कर दिया और  फिर केचूहासिंह, केचूहासिंह महान हो गए !

 

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s